और कुछ याद नही

जब भी सोचा तेरे बारे में,
मोहब्बत के सिवा कुछ याद आया नही,

जैसे बँधी हो दिल पे बेबसी की बेड़ियाँ,
ऐसा कम्बक़्त इस दिल को और किसी ने सताया नही,

ये अश्क भी मानो बेवफा से हो गये,
सुखी आँखों का मंज़र इन्हे कभी भाया नही,

रात भर तेरी यादों से होती रही गुफ्तगू,
ऐसा कम्बक़्त इस दिल को और कोई याद आया नही,

तड़प्ते रहे हम तो यूँ रातों के अंधेरों में,
इन आँखों को कभी रोशन जहाँ भाया नही,

अजब से अंदाज़ हैं इस दिल के मोहब्बत में,
लकिन तेरे हुस्न के सिवा और कोई अंदाज़ भाया नही,

ढ़ूनडता रहा खुद को मोहब्बत में तेरी,
लकिन खुद से खुद के गीले शिकवे मिटाना कभी आया नही,

कुछ ख्वाशें कुछ अरमान थे अजनबी से,
लकिन उन ख्वाशें को अरमानों को कभी पूरा कर पाया नही,

टूट गया इस कदर मोहब्बत में मैं तो,
तेरा नाम तो याद रहा लकिन अपना याद रख पाया नही,

#इश्क़ #हसरतें

Cute-Quotes-Free-Download-Romantic-Love-Cute-Quotes-Wallpapers